Search

#Panirakhiye अनुपम मिश्र : पानी का मास्टर

Updated: May 3

#Panirakhiye पानी बचाने की पुरातन भारतीय तकनीक पर आधारित रुरल कॉल की विशेष सिरीज़ है. ये तकनीकें आज भी उपयोगी हैं और कई मायनों में आधुनिक तकनीकों, परियोजनाओं से ज्यादा श्रेष्ठ हैं. यह सीरीज पानी बचाने की परम्पगत तकनीकों और इस कार्य में अपना पूरा जीवन लगा देने वालों की कहानियाँ है. सीरीज की पहली कड़ी में जानिये पानी के पहरुआ अनुपम मिश्र के बारे में...


Anupam Mishra (1948 – 19 December 2016) was an Indian Gandhian, author, journalist, environmentalist, and water conservationist who worked on promoting water conservation, water management and traditional rainwater harvesting techniques.


अनुपम मिश्र के बारे में आपको क्यों जानना चाहिए... (प्राइम टाइम इंट्रो : अनुपम मिश्र के बारे में आपको क्यों जानना चाहिए...)

He had been awarded the 1996 Indira Gandhi Paryavaran Puraskar (IGPP) award instituted by the Ministry of Environment and Forests, Government of India.He travelled to villages across several Indian states, especially Rajasthan, Madhya Pradesh, Maharashtra, and Uttar Pradesh, describing the value of time-tested systems of water harvesting. He advocated conservation of traditional water structures in India as well as abroad.He wrote books like Aaj Bhi Khare Hain Talaab (Ponds Are Still Relevant, 1993) and Rajasthan Ki Rajat Boondein (Radiant Raindrops of Rajasthan, 1995), landmark works in the field of water conservation.

http://www.ted.com (This talk was presented at an official TED conference.)



With wisdom and wit, Anupam Mishra talks about the amazing feats of engineering built centuries ago by the people of India's Golden Desert to harvest water. These ancient aqueducts and step-wells are still used today -- and are often superior to modern water mega-projects.

To play this video, view this post from your live site.


अनुपम मिश्र से जुड़े अन्य विडियोँ

मैं अनुपम मिश्र को मिस कर रहा हूं...


देश भर के तालाबों पर आधारित उनकी किताब 'आज भी खरे हैं तालाब' मूल रूप से हिन्‍दी में लिखी गई है. इस किताब का 39 से अधिक भाषाओं में अनुवाद हो चुका है. अनुपम जी ने इस किताब को कॉपीराइट से मुक्‍त रखा है. यह किताब हमारे समाज में पानी संरक्षण के क्‍या तरीके रहे हैं, उनका आरम्‍भ कैसे हुआ होगा तथा उनकी अब क्‍या हालत है, इससे रूबरू कराती है. पढ़ने के लिए किताब डाउनलोड करें.


#Panirakhiye सिरीज़ से जुड़ी बातें जानने और हमसे सोशल मीडिया पर जुड़ने के लिए आप हमारे फेसबुक, पेज को लाइक कर सकते हैं. साथ ही इस सिरीज़ से जुड़ी कोई भी बात जानने के लिए सोशल मीडिया पर #Panirakhiye इस्तेमाल करें.

0 comments